भारतीय शुभ दिन पर सोने में इंवेस्ट क्यों करते हैं? - जार ऐप

December 21, 2022
भारतीय शुभ दिन पर सोने में इंवेस्ट क्यों करते हैं? - जार ऐप

सोना एक ऐसी धातु है जिसके साथ सामाजिक और भावनात्मक मूल्य जुड़े हैं। यहां जानें भारतीय किसी भी शुभ दिन पर सोने में इंवेस्ट क्यों करते हैं।

क्या आप सोने के बिना किसी भारतीय शादी की कल्पना कर सकते हैं? आपका जवाब होगा, नहीं!

सोने का महत्त्व न केवल शादियों, बल्कि त्योहारों और शुभ अवसरों जैसे- अक्षय तृतीया, धनतेरस, करवा चौथ, दीवाली, मकर संक्रांति, नवरात्रि वगैरह में भी काफ़ी ज़्यादा है।

भारतीयों के लिए, सोने का मूल्य सिर्फ़ एक धातु मात्र से कहीं ज़्यादा है- इसके भावनात्मक और सामाजिक मूल्य हैं। यह 'फ़ील गुड' धातु है।

सोने के लिए हमारी इच्छा की कोई सीमा नहीं है, जो इसे हर शुभ अवसर का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा बनाती है। आपको सोना हर जगह देखने को मिलेगा- ड्राइवर की शादी से लेकर रानी के ताज तक में।

सोना हमारे बीच सौहार्द भाव पैदा करता है और हमारी संतुष्टि के स्तर को बढ़ाता है।

इसलिए, इसमें कोई आश्चर्य नहीं है कि भारत आज दुनिया में सोने के सबसे बड़े उपभोक्ताओं में से एक है।

वास्तव में, सोना उपहार में देना भी शुभ दिन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। जैसे शादियों में रस्मों- रिवाजों में सोना उपहार में दिया जाता है जो सोने की लगभग 50% मांग का कारण है।

भारतीयों का सोने के प्रति इतना मोह क्यों हैं?

सोने को शुभ और शुद्ध धातु माना जाता है। इसी कारण इसका इस्तेमाल धार्मिक रीति-रिवाजों में किया जाता है। इसका इस्तेमाल देवताओं को सजाने-संवारने के लिए किया जाता है, जो भारतीय मंदिरों को दुनिया के सबसे बड़े सोने के भंडारों में से एक बनाता है।

सोने के बिस्कुट या सोने के सिक्कों से भरे डिब्बे का भी कभी मूल्य कम नहीं होता है। इसका मूल्य बढ़ता रहता है क्योंकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग इसे खरीदने के लिए तैयार रहते हैं। यह आकर्षक धातु अपने मालिक के लिए वास्तविक संपदा उत्पन्न कर सकती है।

आभूषण उद्योग में हीरे, प्लेटिनम, मोती और यहां तक कि सिंथेटिक सोने की मौजूदगी के बावजूद, सोना सबसे ऊपर है- यह पड़ोसियों में ईर्ष्या पैदा करने और मालिक में गर्व पैदा करने का स्रोत है।

लोग शुभ अवसरों पर सोना ही क्यों खरीदते हैं? 

1. स्टेटस सिंबल: भारत में, जहां लोग अपने पैसे का दिखावा करना पसंद करते हैं, वहीं सोना, विशेष रूप से सोने के आभूषण, स्टेटस सिंबल बन गए हैं। हम सोने को धन, शक्ति और हैसियत से जोड़ते हैं। इससे किसी व्यक्ति या परिवार की सोना खरीदने की क्षमता का भी पता चलता है, भले ही इसकी क़ीमतों में बढ़ोतरी हो।

2.पारिवारिक विरासत: अधिकांश भारतीय परिवारों के लिए सोने के गहने, एक महत्वपूर्ण पारिवारिक विरासत है। पारिवारिक विरासत को संरक्षित करने के लिए इसे पीढ़ी-दर-पीढ़ी संभाल कर रखा जाता है।

3.पवित्रता और समृद्धि का संकेत: हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, सोना पवित्र और शुद्ध है। इसके उच्च भावनात्मक और अनुभवजन्य मूल्य है। यह लोगों को करीब लाता है और उनके बीच मेल-जोल बढ़ाता है। सोना पारंपरिक रूप से समृद्धि की देवी लक्ष्मी और धन के देवता कुबेर से भी जुड़ा हुआ माना जाता है। इसलिए सोना खरीदना घर में देवताओं को आमंत्रित करने के बराबर माना जाता है।

4. अच्छा इंवेस्टमेंट: भारतीयों का सोने में इंवेस्टमेंट के लिए जो विश्वास है वह बेजोड़ है। मूर्त होने की वजह से इन्फ़्लेशन से बचाने के गुण के कारण सोने को पारंपरिक रूप से, सबसे सुरक्षित इंवेस्टमेंट (भूमि, संपत्ति और यहां तक कि म्यूचुअल फ़ंड से भी ज़्यादा सुरक्षित) माना जाता है। यह एक मूल्यवान कमोडिटी है जो राजनीतिक और आर्थिक उथल-पुथल के समय में भी वित्तीय सुरक्षा प्रदान कर सकती है। यह पीली धातु बहुविध इंवेस्टमेंट पोर्टफ़ोलियो का हिस्सा है - इसे लंबे समय के इंवेस्टमेंट के रूप में देखा जाता है।

5. उपहार देना: भारत में सोना उपहार में देना शुभ माना जाता है। किसी को सोना उपहार में देना उन्हें न केवल इसका इस्तेमाल करने की अनुमति देता है, बल्कि आर्थिक अनिश्चितता के समय, वे इसे धन के स्रोत के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। हमारे देश में इसे उपहार देने का सबसे बढ़िया विकल्प माना जाता है, जो किसी व्यक्ति के महत्व और इरादे की शुद्धता को दर्शाता है।

6. धार्मिक मूल्य: सोना देश में हर धार्मिक समारोह, चाहे वह किसी भी धर्म का हो, का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। जब मंदिरों में सोना दान करने की बात आती है, तो बढ़ती क़ीमतों के बावजूद भी, भक्त कभी नहीं झिझकते।

7. लिक्विडिटी: लिक्विडिटी के कारण सोना इंवेस्टमेंट और बचत का एक लोकप्रिय विकल्प है। स्टॉक, बांड, रियल एस्टेट और अन्य वित्तीय संपत्तियों के अलावा, सोना तुरंत तरल नकदी में बदला जा सकता है, इसी वजह से यह सभी सामाजिक-आर्थिक बैकग्राउंड के लोगों के लिए एक लोकप्रिय वित्तीय संपत्ति है।

सोना बचत का आसान साधन है - जिसका इस्तेमाल सभी आर्थिक स्तरों के लोगों द्वारा किया जाता है। एक ग्राम सोना भी खरीदकर हजारों रुपये बचाए जा सकते हैं! बचत का कोई अन्य साधन इतनी फ़्लेक्सिबिलिटी प्रदान नहीं करता है।

बाजार में उपलब्ध विकल्पों के कारण अब सोना खरीदना और उपहार में देना पहले से कहीं ज़्यादा आसान हो गया है। डिजिटल गोल्ड सबसे आसान, सुरक्षित और सुविधाजनक विकल्प है। इसके कारण सोना खरीदने के लिए आपको अपने घर से बाहर जाने की भी जरूरत नहीं है। इसे खरीदें, उपहार में दें, इसमें इंवेस्ट करें- वो भी जार ऐप पर सिर्फ़ कुछ ही सेकंडों में। 

डिजिटल गोल्ड में इंवेस्ट करना एक स्मार्ट ऑप्शन क्यों है, तथा इसके फ़ायदों के बारे में जानें।

कुछ ही सेकंडों में सोना खरीदें। अपने प्रियजनों को भेजें। हमारे समाज की एक मूल्यवान वस्तु- इस आकर्षक धातु में इंवेस्ट करें जिसके रिटर्न की कोई सीमा नहीं है।

जानें जार ऐप के जरिए बिना किसी परेशानी के डिजिटल गोल्ड में इंवेस्ट कैसे किया जा सकता है। जार ऐप डाउनलोड करके आज ही अपनी बचत और इंवेस्टमेंट की शुरूआत करें! 

Subscribe to our newsletter
Thank you! Your submission has been received!
Oops! Something went wrong while submitting the form.