बजट को कभी फ़ॉलो नहीं किया? यह बजट गाइड आपको ऐसा करने में मदद कर सकती है

December 20, 2022
बजट को कभी फ़ॉलो नहीं किया? यह बजट गाइड आपको ऐसा करने में मदद कर सकती है

6-स्टेप की यह गाइड, धन और अपनाए जा सकने लायक और फ़ॉलो किए जा सकने वाला पर्सनल बजट कैसे तैयार करें, की समझ पैदा करने में मददग़ार है।

ठीक है, हम समझ गए- बजट बनाना, थकाऊ और उलझन से भरा काम हो सकता है और ज़्यादातर  उसे फ़ॉलो करना मुश्किल होता है।

और इन सभी कारणों से आपको बजट बनाना पसंद नहीं है। लेकिन एक तरीका ऐसा है जिससे आप इसे आसानी से कर सकते हैं।

आपको हम पर भरोसा नहीं है? यहां पर 6-स्टेप की गाइड मौजूद है जो आपको ऐसा बजट तैयार करना सिखाएगी जिसे आप फ़ॉलो कर सकेंगे और जिसके ज़रिए ज़रूरत के समय के लिए बचत भी कर पाएंगे।

 

1. अपने महीने के ख़र्चों पर गौर करें

सबसे पहले, यह देखें कि आप कमाई के हिसाब से महीने में कितना ख़र्च कर सकते हैं।

ऐसा इसलिए क्योंकि जब तक आप अपने महीने के ख़र्चों पर ध्यान नहीं देंगे तब तक बजट बनाने का कोई फ़ायदा नहीं है।

अपनी सालाना तनख़्वाह को 12 से भाग करके फिर उसे ख़र्च करने का विचार सही नहीं है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि आपके प्लान में पर्सनल बजट लिस्ट में ऐसे ख़र्चे कवर नहीं होंगे जो अचानक आ सकते हैं जैसे, डेंटल इमरजेंसी या छुट्टियों के दौरान घर जाने के लिए पहली बार फ़्लाइट से जाने की ज़रूरत।

इसलिए, अपना पूरा समय ऐसे प्लान को बनाने में बर्बाद न करें जिसमें आप केवल कैसे, कब और कहां ख़र्च करने के बारे में ही सोचते रह जाएं। इसकी बजाय साधारण ख़र्च प्लान तैयार करें।

 

2. अपनी ज़रूरतों का विश्लेषण करें

आपकी फ़ायनेंशियल ज़रूरतें वे ख़र्चे होते हैं जो आपके जीवन में ज़रूरी होते हैं।

ज़्यादातर ये ऐसे ख़र्चे होते हैं जो बार बार होते हैं और आपकी तनख़्वाह का बड़ा हिस्सा इनमें लगता है, जैसे- किराया, इंश्योरेंस प्रीमियम, लोन रीपेमेंट, यूटिलिटी बिल, ट्रांसपोर्टेशन, खाने-पीने पर ख़र्च वगैरह।

अपनी ज़रूरतों को जानने के लिए, आपको अपने ख़र्च के पैटर्न को समझने की ज़रूरत है।

इसके लिए सबसे अच्छा तरीका है, पिछले दो महीनों का अपना क्रेडिट कार्ड और बैंक स्टेटमेंट देखें और कैलेंडर पर उन तारीखों को देखें जिनमें आपने बिल का पेमेंट किया है।

इससे आपको समझ आएगा कि कब-कब आपके ख़र्चे होते हैं।

इस तरह से, आप अपनी ख़र्चा करने की आदतों को पहचान सकते हैं, उदाहरण के तौर पर, आप कितनी बार डिनर ऑर्डर करते हैं और हर बार आप कितना ख़र्च करते हैं।

 

3. अपनी ज़रूरतों की ज़िम्मेदारी उठाएं

कुछ ख़र्चे जो आपके जीवन को सुविधाजनक बना सकते हैं उन्हें ज़रूरतों में शामिल किया जा सकता है।

यह ऐसे सामान होते हैं जिनके बिना भी काम चलाया जा सकता है लेकिन इनके होने से काफ़ी सुविधा होती है।

उदाहरण के तौर पर, खाना खाना ज़रूरी है लेकिन हफ़्ते में दो या इससे ज़्यादा बार बाहर खाना ज़रूरत से ज़्यादा है।

अपनी ज़रूरतें तय करने के लिए, आपको अपनी ज़रूरतों के ख़र्च को महीने की कमाई से घटाना होगा। इससे आपको उस धन के बारे में पता चल पाएगा जिसे आप सुख-सुविधा में ख़र्च कर सकते हैं।

इस प्रकार, महीने की कमाई - ज़रूरी ख़र्च=अतिरिक्त धन जिसे आप अपनी मर्जी से सुख-सुविधा में ख़र्च कर सकते हैं।

 

4.  बचत करना न भूलें

बचत को अपने बजट में ज़रूरी ख़र्च के तौर पर शामिल करके और ग़ैर-ज़रूरी ख़र्च पर नजर रखकर आप ज़्यादा ख़र्च करने से बच सकते हैं।

आप जो धन ख़र्च कर रहे हैं उसके लिए हमेशा जवाबदेह रहें क्योंकि इससे आपको बाद में चीज़ों का ट्रैक बनाने में आसानी होगी।

ऐसा करने से आपको ट्रैक तैयार करने और अपनी बचत पर नियंत्रण रखने में सुविधा होगी।

बजट की प्लानिंग काफ़ी ज़्यादा महत्वपूर्ण होती है, क्योंकि इसके ज़रिए अपने ख़र्चों का ट्रैक तैयार करने से आपको शॉर्ट और लांग टर्म दोनों में फ़ायदा होगा।

बचत करने का सबसे अच्छा तरीका अलग से एक बैंक खाता बनाना है। जैसे ही आपको तनख़्वाह मिलती है, आप इसका 10% इस खाते में बचत के तौर पर डाल सकते हैं।

अपने ख़र्चों को ट्रैक करने के लिए अलग खाते का इस्तेमाल करें। इससे आपका काम आसान हो जाएगा। अब तक आपने बजट की जिस समस्या का सामना किया, उसका समाधान भी इससे हो जाएगा।

 

5.  छोटे ख़र्चों को भी ट्रैक करें

अगर आपका बजट सही से तैयार नहीं हुआ है, तो आप उसे फ़ॉलो नहीं कर पाएंगे। अगर आपने ₹100 का स्नैक ऑर्डर किया है तो अपने ख़र्च के ब्योरे में उसे भी लिखें।

अगर आप वीकेंड पर मूवी देखने जाते हैं, तो ₹250 की टिकट को भी ख़र्च के ब्योरे में शामिल करें।

इससे आपको हर साल ऐसे हज़ारों रुपए के ख़र्च देखने को मिलेंगे जिन्हें आपने बिना सोचे समझे किया, और सबसे ज़रूरी बात यह है कि आपको इसका पता भी नहीं चलता।

अपने सभी ख़र्चों पर नजर रखना और उनका रिकॉर्ड बनाना बजट को फ़ॉलो करने का प्रभावी तरीका है।

हालांकि, अपने बियर और बर्गर के ख़र्चों को मैनुअली ट्रैक करना बेवकूफ़ी भरा हो सकता है।

हर बार ख़र्च होने पर उसका मैनुअल रिकॉर्ड बनाने से, संभावना है कि आपको यह देखकर टेंशन होने लगे कि आपके वॉलेट से कितना पैसा ख़र्च हो रहा है।

लेकिन, क्या हो अगर आपके पास ऐसा ऐप हो जो हर बार ख़र्च करने पर बचत करने में आपकी मदद करे? सौभाग्य से, तकनीक में हमारी तरक्की से ऐसा मुमकिन हो पाया है।

जार ऐसा ही ऐप है जो आपके रोज़ाना के ख़र्चों को राउंड ऑफ़ करने में मदद करता है और सबसे अच्छी बात तो यह है कि आप 100% सुरक्षित डिजिटल गोल्ड को खरीदकर अपनी बचत को इंवेस्ट कर सकते हैं।

अब, अगर यह बेस्ट नहीं है, तो और क्या बेस्ट होगा?

 

6. अपने बजट को लगातार सुधारें

लगातार बदलती जीवनशैली में, आपका बजट समान नहीं रहना चाहिए। समय के साथ, जैसे कुछ अवसर आपके जीवन जीने के तरीके को बदल देते हैं, वैसे ही आपका बजट भी बदलते रहना चाहिए और आपको उसे लगातार फ़ॉलो करना चाहिए।

उदाहरण के तौर पर, जब आप होम लोन लेने या परिवार आगे बढ़ाने पर विचार करते हैं, तो आपके बजट में इनकी प्लानिंग होनी चाहिए।

इसी प्रकार, कुछ क़ीमतें आपके मौजूदा बजट प्लान के बाहर जा सकती हैं- जैसे नए आइफ़ोन की EMI चुकता करना या पहले के स्टूडेंट लोन का रीपेमेंट।

अंत में, सबसे ज़रूरी बात यह है कि अपने बजट प्लान पर नजर बनाए रखें जिससे पता चलता रहे कि वह आपकी ज़रूरतों के अनुसार है या नहीं।

हर 2-3 महीनों में अपने बजट को देखें और अपने ख़र्च और कमाई का हिसाब-किताब लगाएं।

 

निष्कर्ष

अब जब हमने बचत और बजट बनाने के बारे में आपको अहम बातें बता दी हैं, तो इन्हें फ़ॉलो करने की बारी आपकी है।

समय के साथ, बजट बनाने की आपकी अपनी प्रक्रिया तैयार हो जाएगी, और चीजें आसान हो जाएंगी।

प्रयोग करते रहें, और धन बचाने के नए नए तरीके अपनाते रहें।

आपका धन कहां ख़र्च हो रहा है इसे समझने के लिए पर्सनल बजट ऐप का इस्तेमाल करें।

सावधानी बरतें और अपने ख़र्चों के प्रति जवाबदेह बने रहें।

इससे आपको एक ऐसा सस्टेनेबल सिस्टम बनाने में मदद मिलेगी जिससे न सिर्फ़ आपकी बचत हो पाएगी, बल्कि आप अपने धन का उचित और सुविधाजनक तरीके से इस्तेमाल भी कर पाएंगे!

 

Subscribe to our newsletter
Thank you! Your submission has been received!
Oops! Something went wrong while submitting the form.