कंसिस्टेंसी की पावर! आप जितना ज़्यादा ख़र्च करेंगे, उतना ही ज़्यादा बचाएंगे- जार ऐप

December 21, 2022
कंसिस्टेंसी की पावर! आप जितना ज़्यादा ख़र्च करेंगे, उतना ही ज़्यादा बचाएंगे- जार ऐप

जार ऐप के साथ आप ऑटो-इंवेस्टमेंट फ़ीचर के साथ अपनी ‍कंसिस्टेंट सेविंग जर्नी शुरू कर सकते हैं। अब, आप जितना ज़्यादा ख़र्च करेंगे, उतना ही ज़्यादा बचा सकते हैं। ‍कंसिस्टेंसी सफलता की कुंजी है। ‍

हम सबने यह सुना ही है। फिर क्यों कई लोग अभी भी ‍कंसिस्टेंट बने रहने के लिए स्ट्रगल करते हैं? क्या इसके बारे में कभी सोचा है आपने?

इसका कारण सीधा सा है - कंसिस्टेंसी का विचार ऊपर से आसान और आकर्षक लगता है। लेकिन जब आप इसे अपने दैनिक जीवन में अपनाने की कोशिश करते हैं तो धैर्य की बड़ी ज़रूरत होती है।

‍कंसिस्टेंसी से आदतें बनती हैं। ये आदतें हमारे रोजमर्रा के कामों को आकार देती हैं। लेकिन नई आदतों को बनाए रखना, जिम जाने या वज़न कम करने के नए साल के संकल्प की तरह मुश्किल है। 

हम कुछ समय तक तो इसे करते हैं, पर जोश कम होने के साथ हम भी हार मान लेते हैं, और अपनी पुरानी आदतों पर लौट आते हैं। यह सब इसलिए होता है क्योंकि हमारी पुरानी आदतें हमारी दिनचर्या में गहराई तक समाई होती हैं। ‍

"मैंने लगातार छोटी-छोटी आदतें डालना शुरू किया और अंत मे मुझे इसका वह परिणाम मिला जिसकी शुरूआत में कल्पना भी नहीं थी।" - बेस्ट सेलिंग किताब 'एटॉमिक हैबिट्स' के लेखक जेम्स क्लियर ने यह कहा है।

जेम्स ने सही ही कहा है। आप कहां हैं और आप कहां जाना चाहते हैं, इसके बीच का अंतर ‍कंसिस्टेंसी है। (सच में)

पैसे बचाने के मामले में भी यही सच है। 

इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता कि आप कितना कमाते हैं, पैसा बचाना आपकी पहली प्राथमिकता होनी चाहिए। हमेशा। ख़ासकर तब जब आप लिमिटेड बजट के साथ काम कर रहे हों।

लेकिन यह कई लोगों को बहुत कठिन काम लगता है, ख़ासकर तब जब आपको इसे बार-बार करना पड़े। इसलिए लोग पैसा बचा ही नहीं पाते हैं।

असल में, वे इसका उल्टा करते हैं। जितना कमाते हैं, उससे ज़्यादा ख़र्च करते हैं। इससे आपको महीने के अंत में कुछ भी नहीं मिलता है और आप हमेशा के लिए सैलरी से सैलरी के रूटीन जाल में फंस के रह जाते हैं।

इस जाल को तोड़ कर आज से ही सेविंग करना शुरू करें। आपको कहीं से तो शुरुआत करनी होगी, है ना? ‍

लेकिन आपको पता है यह काफ़ी नहीं है। आप कभी-कभी तो ऐसा कर सकते हैं, लेकिन रेगुलर स्ट्रेटेजी बनाए रखना चेलेंजिंग हो सकता है। पैसे बचाने के लिए आपको लगातार प्रयास करने होंगे। क्योंकि, यही सफलता की कुंजी है।

अगर हर महीने नहीं, तो छोटे से शुरूआत करें, जैसे कि हर दिन ₹10 की सेविंग करना। इसे आसानी से सेव भी कर सकते हैं। यह एक छोटा अमाउंट लगता है, लेकिन अगर आप लगातार यह करते हैं, तो यह बहुत बड़ा अमाउंट हो जाएगा।

यहां इसकी जल्द से जल्द शुरुआत सबसे ज़्यादा मायने रखती है। जितनी जल्दी हो सके शुरू करें। यह आपको कुछ अतिरिक्त सालों की कंपाउंडिंग प्रदान करता है - और सेविंग ‍अमाउंट जितना बड़ा होता है, उतनी ही ज़्यादा कंपाउंडिंग से असर पड़ता है। यह आपको समय के साथ एक रिटायरमेंट अकाउंट बनाने में भी मदद कर सकता है, जो आपके रिटायरमेंट फंड का एक बड़ा हिस्सा बन सकता है।

यहां यह बताया गया है कि आप इसकी शुरुआत कैसे कर सकते हैं: ‍

तय करें कि आपको कितना बचाना है

अगर आप सच में फ़ाइनेंशियल तौर पर कामयाब होना चाहते हैं, तो आपको हर महीने कितनी ‍अमाउंट अलग रखनी चाहिए, इसके लिए सामान्य नियम क्या है? आपकी इनकम का 10% - 15%। ‍

इनकम के सभी सोर्स से पे-चेक शामिल करें- जैसे साइड बिज़नेस और फ़्रीलांस प्रोजेक्ट आदि को इसमें शामिल करें। इमरजेंसी के लिए, रिटायरमेंट के मामले में या अपनी लाइफ़ स्टाइल को बनाए रखने के लिए फ़ाइनेंशियल सेफ़्टी नेट बनाने के लिए यह बहुत ज़रूरी है। ‍

पता लगाएं कि आप कितना पैसा बचा सकते हैं

जब आप सेविंग स्ट्रेटेजी के साथ शुरुआत कर रहे हों, तो अपनी सैलरी के 10% को बचाना मुश्किल हो सकता है। इसका मतलब यह नहीं है कि आपको पूरी तरह से हार मान लेनी चाहिए।

इसकी जगह, आप जो ख़र्च कर रहे हैं उसको देख कर शुरूआत करें और टारगेट बनाकर काम करें। अगर आप अपना बजट बना कर ऐसा करते हैं तो पैसे बचाना और ज़्यादा आसान हो जाता है।

अपने बजट को अच्छी तरह समझ कर शुरूआत करें और देखें कि आपके सभी बिलों और अन्य ज़रूरी ख़र्चों का हर महीने पेमेंट करने के बाद, आपके बजट में आम तौर पर कितना अतिरिक्त पैसा बचता है। ‍

यह सुनिश्चित करें कि आप पैसा बचाएंगे

अब जब आप जानते हैं कि आपको कितनी सेविंग करनी चाहिए, तो सुनिश्चित करें कि यह सेविंग हर महीने होती रहे। फ़ाइनेंशियल टारगेट सेट करें।

अपनी सेविंग को भी किसी भी अन्य फ़ाइनेंशियल कमिटमेंट की तरह ही मानें। सेविंग वह पैसा है जो आप पर खुद का बकाया है, ठीक उसी तरह जैसे आप अपने मोबाइल प्रोवाइडर, यूटिलिटी कंपनी और क्रेडिटर को देते हैं।

अगर आप इस दृष्टि से सोचते हैं कि सेविंग एक मंथली कमिटमेंट है जिसे आपको पूरा करना है, तो आपके लिए कंसिस्टेंट रहकर सेविंग करना आसान होगा।

अपनी सेविंग को ऑटोमेट करे

अगर लगातार सेविंग की आदत आपके लिए स्ट्रगल है, तो इस प्रोसेस को ऑटोमेट करें। हां जी! सेविंग की आदत डालने के लिए अपनी सेविंग को ऑटोमेट करना सबसे सरल तरीकों में से एक है।

बस जार ऐप जैसा एक ऑटोमेटेड सिस्टम बनाएं और देखें कि आपका पैसा कैसे इधर से उधर हो रहा है। यह आपकी लाइफ़ स्टाइल को आपके 'टेक होम' सैलरी में ढ़ालने में आपकी मदद करेगा।

सिर्फ़ बैंक में पड़ा पैसा बेकार होता है। यह बढ़ता नहीं है। इंफ़्लेशन के कारण समय के साथ इसका मूल्य कम ही होता जाता है। (इसके बारे में यहां विस्तार से पढ़ें।)‍

इसका समाधान इसे इंवेस्ट करना ही है। ‍

यह मत सोचो कि यह आपकी समझ से परे है। हर कोई अपना पैसा इंवेस्ट कर सकता है और करना भी चाहिए। अगर आपको इंवेस्टमेंट के बारे में कोई जानकारी नहीं है तो चिंता न करें।

हम सब कहीं न कहीं से शुरुआत करते ही हैं। अपनी रिसर्च करें और इस बारे में बहुत सारा पढ़ें। (यहां और टिप्स पाएं) डिजिटल गोल्ड जैसे सेफ़ एसेट से शुरुआत करें।

यह वह पार्ट है जहां जार ऐप आपकी मदद कर सकता है। 

जार क्या है? ‍

जार एक डेली गोल्ड सेविंग ऐप है जो पैसे बचाने में आपकी मदद करती है। यह आपके ऑनलाइन लेनदेन से अतिरिक्त अमाउंट को निकाल कर ऑटोमेटिक तौर पर डिजिटल गोल्ड में इंवेस्ट कर देती है। ‍

जार, सेविंग और इंवेस्ट करने का सबसे सरल और बेहतरीन तरीका है।

जार के साथ, आप 24K सोने के साथ अपने एसेट बढ़ा सकते हैं (अगर हम पर भरोसा नहीं तो खुद करके देखें)। सोने के बेस्ट रेट पर डिजिटल गोल्ड खरीदें और बेचें। आप इसमें सिर्फ़ ₹1 से भी शुरूआत कर सकते हैं।

डिजिटल गोल्ड इंवेस्टमेंट के रूप में छोटी रकम को ऑटो इंवेस्ट करके सेविंग की आदत बनाएं, जिसे आप जब चाहें अपने ई-वॉलेट में भुना या निकाल सकते हैं।

मान लीजिए आप ज़ोमेटो से राइस बाउल जैसा कुछ ऑर्डर करते हैं। इसकी क़ीमत ₹324 है और आप पेटीएम के जरिए पेमेंट करते हैं।

अब जार उस ‍अमाउंट को निकटतम 10 में राउंड ऑफ़ कर देगा, जो कि ₹330 होता है और इसके (330-324) ₹6 के अंतर को सीधे डिजिटल गोल्ड में इंवेस्ट कर देगा। क्या यह अच्छा नहीं है? यह आपको एक छोटी ‍अमाउंट की तरह लग सकता है, लेकिन यह लंबे समय में बड़ा फ़ायदा देता है। ‍

आप जितना ज़्यादा ख़र्च करेंगे, उतना ही ज़्यादा बचाएंगे। वो भी अपनी जेब पर अतिरिक्त भार डाले बिना।

आप हमारे प्रीमियम डिजिटल गोल्ड इंवेस्टमेंट प्लान और ऑफ़र (सोने के बेस्ट रेट पर) के साथ जार पर माइक्रो-सेविंग कर सकते हैं। 100% सुरक्षित और लिक्विड ऑफ़र आपको हर एक ट्रांज़ेक्शन के साथ ऑटोमेटिक तौर पर 24K सोना खरीदने की सुविधा देता है।

जार के साथ, आपके पास अपने फ़ाइनेंस पर पूरा कंट्रोल होता है, आप एक बटन पर क्लिक करके आसानी से सोना खरीदना या फंड रोक सकते हैं, फिर से शुरू कर सकते हैं या अपना पैसा या सोना निकाल सकते हैं।

आप ऑटो पे विकल्प सेट कर सकते हैं या मैन्युअली इंवेस्ट करना चुन सकते हैं। लेकिन इतना ही नहीं, आपको गेम खेलने और अपनी सेविंग को दोगुना करने का भी मौका मिलता है। ‍

स्पिन द व्हील - जार पर हर ट्रांज़ेक्शन में पैसे बचाएं। जार ऐप पर हर ट्रांज़ेक्शन आपको सेविंग पर स्पिन द व्हील जिताता है। जार आपको अपनी सेविंग को दोगुना करने या गेम खेलकर आकर्षक कैश-बैक जीतने का मौका देता है। ‍

भविष्य के लिए आपके हर फ़ाइनेंशियल टारगेट के लिए एक जार बनाएं

जार के साथ, आप अपने फ़ाइनेंशियल टारगेट पूरा करने के लिए कस्टम 'जार' बना सकते हैं जैसे:

  • अपनी शादी के लिए सोना खरीदें

  • माता-पिता के लिए एनिवर्सरी गिफ़्ट खरीदने के लिए पैसे बचाएं

  • अपनी अगली सोलो या फैमिली ट्रिप के लिए पैसे बचाएं

  • बच्चे की एजुकेशन के लिए फ़ाइनेंस का प्लान बनाएं

  • अपना बिज़नेस शुरू करने या पसंदीदा शेयरों में इंवेस्ट करने के लिए फ़ाइनेंस का प्लान बनाएं

  • बेहतर मनी कंट्रोल और फ़ाइनेंशियल कंट्रोल के लिए पैसे बचाएं

  • सुरक्षित भविष्य के लिए डिजिटल गोल्ड खरीदें

  • अपने सपनों की कार, घर, फ़ोन या लैपटॉप खरीदने के लिए पर्सनल फ़ाइनेंस के प्लान बनाएं

  • इमरजेंसी में पैसों की जरुरतों के लिए फ़ाइनेंस के प्लान बनाएं

और जानना चाहेंगे? यहां और ज़्यादा जानें। 

कंसिस्टेंसी की राह आसान नहीं है। इतने सारे डिस्ट्रेक्शन रास्ते में लाइन लगाए खड़े हैं। 

जार को उन डिस्ट्रेक्शंन को दूर करने और आपकी जर्नी को आसान बनाने में आपकी मदद करने का मौका दें। आज से ही सेविंग करना शुरू करें। जार ऐप डाउनलोड करें।

Subscribe to our newsletter
Thank you! Your submission has been received!
Oops! Something went wrong while submitting the form.